shikast-e-jaan se siva bhi hai kaar-e-fan kya kya | शिकस्त-ए-जाँ से सिवा भी है कार-ए-फ़न क्या क्या - Obaidullah Aleem

shikast-e-jaan se siva bhi hai kaar-e-fan kya kya
azaab kheench raha hai mera badan kya kya

na koi hijr ka din hai na koi vasl ki raat
magar vo shakhs ki hai jaan-e-anjuman kya kya

ada hui hai kai baar tark-e-ishq ki rasm
magar hai sar pe wahi qarz-e-jaan-o-tan kya kya

nigah-e-bulhavasaan haaye kya qayamat hai
badal rahe hain gul-o-laala pairhan kya kya

guzar gaye to guzarte rahe bahut khurshid
jo rang laai to laai hai ik kiran kya kya

qareeb tha ki main kaar-e-junoon se baaz aaun
khinchi khayal mein tasveer-e-koh-kan kya kya

शिकस्त-ए-जाँ से सिवा भी है कार-ए-फ़न क्या क्या
अज़ाब खींच रहा है मिरा बदन क्या क्या

न कोई हिज्र का दिन है न कोई वस्ल की रात
मगर वो शख़्स कि है जान-ए-अंजुमन क्या क्या

अदा हुई है कई बार तर्क-ए-इश्क़ की रस्म
मगर है सर पे वही क़र्ज़-ए-जान-ओ-तन क्या क्या

निगाह-ए-बुलहवसाँ हाए क्या क़यामत है
बदल रहे हैं गुल-ओ-लाला पैरहन क्या क्या

गुज़र गए तो गुज़रते रहे बहुत ख़ुर्शीद
जो रंग लाई तो लाई है इक किरन क्या क्या

क़रीब था कि मैं कार-ए-जुनूँ से बाज़ आऊँ
खिंची ख़याल में तस्वीर-ए-कोह-कन क्या क्या

- Obaidullah Aleem
1 Like

Jalwa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Jalwa Shayari Shayari