guzaro na is tarah ki tamasha nahin hoon main | गुज़रो न इस तरह कि तमाशा नहीं हूँ मैं - Obaidullah Aleem

guzaro na is tarah ki tamasha nahin hoon main
samjho ki ab hoon aur dobara nahin hoon main

ik taba rang rang thi so nazr-e-gul hui
ab ye ki apne saath bhi rehta nahin hoon main

tum ne bhi mere saath uthaaye hain dukh bahut
khush hoon ki raah-e-shauq mein tanhaa nahin hoon main

peeche na bhag waqt ki ai na-shanaas dhoop
saayo ke darmiyaan hoon saaya nahin hoon main

jo kuchh bhi hoon main apni hi soorat mein hoon aleem
ghalib nahin hoon meer-o-yagaana nahin hoon main

गुज़रो न इस तरह कि तमाशा नहीं हूँ मैं
समझो कि अब हूँ और दोबारा नहीं हूँ मैं

इक तब्अ' रंग रंग थी सो नज़्र-ए-गुल हुई
अब ये कि अपने साथ भी रहता नहीं हूँ मैं

तुम ने भी मेरे साथ उठाए हैं दुख बहुत
ख़ुश हूँ कि राह-ए-शौक़ में तन्हा नहीं हूँ मैं

पीछे न भाग वक़्त की ऐ ना-शनास धूप
सायों के दरमियान हूँ साया नहीं हूँ मैं

जो कुछ भी हूँ मैं अपनी ही सूरत में हूँ 'अलीम'
'ग़ालिब' नहीं हूँ 'मीर'-ओ-'यगाना' नहीं हूँ मैं

- Obaidullah Aleem
1 Like

Rang Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Rang Shayari Shayari