main jis mein kho gaya hoon mera khwaab hi to hai | मैं जिस में खो गया हूँ मिरा ख़्वाब ही तो है - Obaidullah Aleem

main jis mein kho gaya hoon mera khwaab hi to hai
yak do nafs numood sahi zindagi to hai

jaltee hai kitni der hawaon mein mere saath
ik sham'a phir mere liye raushan hui to hai

jis mein bhi dhal gai use mahtaab kar gai
mere lahu mein aisi bhi ik raushni to hai

parchaaiyon mein doobta dekhoon bhi mehr-e-umr
aur phir bacha na paau ye bechaargi to hai

tu boo-e-gul hai aur pareshaan hua hoon main
dono mein ek rishta-e-aawargi to hai

ai khwaab khwaab umr-e-gurezaan ki saa'to
tum sun sako to baat meri guftani to hai

मैं जिस में खो गया हूँ मिरा ख़्वाब ही तो है
यक दो नफ़स नुमूद सही ज़िंदगी तो है

जलती है कितनी देर हवाओं में मेरे साथ
इक शम्अ' फिर मिरे लिए रौशन हुई तो है

जिस में भी ढल गई उसे महताब कर गई
मेरे लहू में ऐसी भी इक रौशनी तो है

परछाइयों में डूबता देखूँ भी महर-ए-उम्र
और फिर बचा न पाऊँ ये बेचारगी तो है

तू बू-ए-गुल है और परेशाँ हुआ हूँ मैं
दोनों में एक रिश्ता-ए-आवारगी तो है

ऐ ख़्वाब ख़्वाब उम्र-ए-गुरेज़ाँ की साअ'तो
तुम सुन सको तो बात मिरी गुफ़्तनी तो है

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari