main ye kis ke naam likkhoon jo alam guzar rahe hain | मैं ये किस के नाम लिक्खूँ जो अलम गुज़र रहे हैं - Obaidullah Aleem

main ye kis ke naam likkhoon jo alam guzar rahe hain
mere shehar jal rahe hain mere log mar rahe hain

koi guncha ho ki gul ho koi shaakh ho shajar ho
vo hawaa-e-gulistaan hai ki sabhi bikhar rahe hain

kabhi rahmaten theen naazil isee khitta-e-zameen par
wahi khitta-e-zameen hai ki azaab utar rahe hain

wahi taaeron ke jhurmut jo hawa mein jhoolte the
vo fazaa ko dekhte hain to ab aah bhar rahe hain

badi aarzoo thi ham ko naye khwaab dekhne ki
so ab apni zindagi mein naye khwaab bhar rahe hain

koi aur to nahin hai pas-e-khanjar-aazmaai
humeen qatl ho rahe hain humeen qatl kar rahe hain

मैं ये किस के नाम लिक्खूँ जो अलम गुज़र रहे हैं
मिरे शहर जल रहे हैं मिरे लोग मर रहे हैं

कोई ग़ुंचा हो कि गुल हो कोई शाख़ हो शजर हो
वो हवा-ए-गुलिस्ताँ है कि सभी बिखर रहे हैं

कभी रहमतें थीं नाज़िल इसी ख़ित्ता-ए-ज़मीं पर
वही ख़ित्ता-ए-ज़मीं है कि अज़ाब उतर रहे हैं

वही ताएरों के झुरमुट जो हवा में झूलते थे
वो फ़ज़ा को देखते हैं तो अब आह भर रहे हैं

बड़ी आरज़ू थी हम को नए ख़्वाब देखने की
सो अब अपनी ज़िंदगी में नए ख़्वाब भर रहे हैं

कोई और तो नहीं है पस-ए-ख़ंजर-आज़माई
हमीं क़त्ल हो रहे हैं हमीं क़त्ल कर रहे हैं

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Qatil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Qatil Shayari Shayari