paa-b-zanjeer sahi zamzama-khwaan hain ham log | पा-ब-ज़ंजीर सही ज़मज़मा-ख़्वाँ हैं हम लोग - Obaidullah Aleem

paa-b-zanjeer sahi zamzama-khwaan hain ham log
mehfil-e-waqt tiri rooh-e-ravaan hain ham log

dosh par baar-e-shab-e-gham liye gul ki maanind
kaun samjhe ki mohabbat ki zabaan hain ham log

khoob paaya hai sila teri parastaari ka
dekh ai subh-e-tarab aaj kahaan hain ham log

ik mata-e-dil-o-jaan paas thi so haar chuke
haaye ye waqt ki ab khud pe garaan hain ham log

nikhat-e-gul ki tarah naaz se chalne waalo
ham bhi kahte the ki aasooda-e-jaan hain ham log

koi batlaaye ki kaise ye khabar aam karein
dhundti hai jise duniya vo nishaan hain ham log

qismat-e-shab-zadgaan jaag hi jaayegi aleem
jars-e-qaafila-e-khush-khabaraan hain ham log

पा-ब-ज़ंजीर सही ज़मज़मा-ख़्वाँ हैं हम लोग
महफ़िल-ए-वक़्त तिरी रूह-ए-रवाँ हैं हम लोग

दोश पर बार-ए-शब-ए-ग़म लिए गुल की मानिंद
कौन समझे कि मोहब्बत की ज़बाँ हैं हम लोग

ख़ूब पाया है सिला तेरी परस्तारी का
देख ऐ सुब्ह-ए-तरब आज कहाँ हैं हम लोग

इक मता-ए-दिल-ओ-जाँ पास थी सो हार चुके
हाए ये वक़्त कि अब ख़ुद पे गराँ हैं हम लोग

निकहत-ए-गुल की तरह नाज़ से चलने वालो
हम भी कहते थे कि आसूदा-ए-जाँ हैं हम लोग

कोई बतलाए कि कैसे ये ख़बर आम करें
ढूँडती है जिसे दुनिया वो निशाँ हैं हम लोग

क़िस्मत-ए-शब-ज़दगाँ जाग ही जाएगी 'अलीम'
जरस-ए-क़ाफ़िला-ए-ख़ुश-ख़बराँ हैं हम लोग

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Sach Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Sach Shayari Shayari