tu apni awaaz mein gum hai main apni awaaz mein chup | तू अपनी आवाज़ में गुम है मैं अपनी आवाज़ में चुप - Obaidullah Aleem

tu apni awaaz mein gum hai main apni awaaz mein chup
dono beech khadi hai duniya aaina-e-alfaaz mein chup

awwal awwal bol rahe the khwaab-bhari hairaani mein
phir ham dono chale gaye paataal se gehre raaz mein chup

khwaab-saraa-e-zaat mein zinda ek to soorat aisi hai
jaise koi devi baithi ho hujra-e-raaz-o-niyaaz mein chup

ab koi choo ke kyun nahin aata udhar sire ka jeevan-ang
jaante hain par kya batlaayein lag gai kyun parvaaz mein chup

phir ye khel-tamasha saara kis ke liye aur kyun sahab
jab is ke anjaam mein chup hai jab is ke aaghaaz mein chup

neend-bhari aankhon se chooma diye ne suraj ko aur phir
jaise shaam ko ab nahin jalna kheench li is andaaz mein chup

ghaib-samay ke gyaan mein paagal kitni taan lagaayega
jitne sur hain saaz se baahar us se ziyaada saaz mein chup

तू अपनी आवाज़ में गुम है मैं अपनी आवाज़ में चुप
दोनों बीच खड़ी है दुनिया आईना-ए-अल्फ़ाज़ में चुप

अव्वल अव्वल बोल रहे थे ख़्वाब-भरी हैरानी में
फिर हम दोनों चले गए पाताल से गहरे राज़ में चुप

ख़्वाब-सरा-ए-ज़ात में ज़िंदा एक तो सूरत ऐसी है
जैसे कोई देवी बैठी हो हुजरा-ए-राज़-ओ-नियाज़ में चुप

अब कोई छू के क्यूँ नहीं आता उधर सिरे का जीवन-अंग
जानते हैं पर क्या बतलाएँ लग गई क्यूँ पर्वाज़ में चुप

फिर ये खेल-तमाशा सारा किस के लिए और क्यूँ साहब
जब इस के अंजाम में चुप है जब इस के आग़ाज़ में चुप

नींद-भरी आँखों से चूमा दिए ने सूरज को और फिर
जैसे शाम को अब नहीं जलना खींच ली इस अंदाज़ में चुप

ग़ैब-समय के ज्ञान में पागल कितनी तान लगाएगा
जितने सुर हैं साज़ से बाहर उस से ज़ियादा साज़ में चुप

- Obaidullah Aleem
0 Likes

Adaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Obaidullah Aleem

As you were reading Shayari by Obaidullah Aleem

Similar Writers

our suggestion based on Obaidullah Aleem

Similar Moods

As you were reading Adaa Shayari Shayari