aankh sahmi hui darti hui dekhi gai hai | आँख सहमी हुई डरती हुई देखी गई है - Rafi Raza

aankh sahmi hui darti hui dekhi gai hai
amn ki faakhta marti hui dekhi gai hai

kya bacha kitna bacha taab kise hai dekhe
mauj-e-khoon sar se guzarti hui dekhi gai hai

aise lagta hai yahan se nahin jaane waali
jo siyah-raat thaharti hui dekhi gai hai

doosri baar hua hai ki yahi dost hua
par parindon ke katartee hui dekhi gai hai

ek ujadi hui hasrat hai ki paagal ho kar
bein har shehar mein karti hui dekhi gai hai

maut chamki kisi shamsher-e-barhana ki tarah
raushni dil mein utarti hui dekhi gai hai

phir kinaare pe wahi shor wahi log raza
phir koi laash ubharti hui dekhi gai hai

आँख सहमी हुई डरती हुई देखी गई है
अम्न की फ़ाख़्ता मरती हुई देखी गई है

क्या बचा कितना बचा ताब किसे है देखे
मौज-ए-ख़ूँ सर से गुज़रती हुई देखी गई है

ऐसे लगता है यहाँ से नहीं जाने वाली
जो सियह-रात ठहरती हुई देखी गई है

दूसरी बार हुआ है कि यही दोस्त हुआ
पर परिंदों के कतरती हुई देखी गई है

एक उजड़ी हुई हसरत है कि पागल हो कर
बैन हर शहर में करती हुई देखी गई है

मौत चमकी किसी शमशीर-ए-बरहना की तरह
रौशनी दिल में उतरती हुई देखी गई है

फिर किनारे पे वही शोर वही लोग 'रज़ा'
फिर कोई लाश उभरती हुई देखी गई है

- Rafi Raza
1 Like

Friendship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Rafi Raza

As you were reading Shayari by Rafi Raza

Similar Writers

our suggestion based on Rafi Raza

Similar Moods

As you were reading Friendship Shayari Shayari