main talkhi-e-hayaat se ghabra ke pee gaya | मैं तल्ख़ी-ए-हयात से घबरा के पी गया - Saghar Siddiqui

main talkhi-e-hayaat se ghabra ke pee gaya
gham ki siyaah raat se ghabra ke pee gaya

itni daqeeq shay koi kaise samajh sake
yazdaan ke waqiaat se ghabra ke pee gaya

chalke hue the jaam pareshaan thi zulf-e-yaar
kuchh aise haadsaat se ghabra ke pee gaya

main aadmi hoon koi farishta nahin huzoor
main aaj apni zaat se ghabra ke pee gaya

duniya-e-haadsaat hai ik dardnaak geet
duniya-e-haadsaat se ghabra ke pee gaya

kaante to khair kaante hain is ka gila hi kya
phoolon ki waardaat se ghabra ke pee gaya

saaghar vo kah rahe the ki pee leejie huzoor
un ki guzaarishaat se ghabra ke pee gaya

मैं तल्ख़ी-ए-हयात से घबरा के पी गया
ग़म की सियाह रात से घबरा के पी गया

इतनी दक़ीक़ शय कोई कैसे समझ सके
यज़्दाँ के वाक़िआत से घबरा के पी गया

छलके हुए थे जाम परेशाँ थी ज़ुल्फ़-ए-यार
कुछ ऐसे हादसात से घबरा के पी गया

मैं आदमी हूँ कोई फ़रिश्ता नहीं हुज़ूर
मैं आज अपनी ज़ात से घबरा के पी गया

दुनिया-ए-हादसात है इक दर्दनाक गीत
दुनिया-ए-हादसात से घबरा के पी गया

काँटे तो ख़ैर काँटे हैं इस का गिला ही क्या
फूलों की वारदात से घबरा के पी गया

'साग़र' वो कह रहे थे कि पी लीजिए हुज़ूर
उन की गुज़ारिशात से घबरा के पी गया

- Saghar Siddiqui
1 Like

Wajood Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Saghar Siddiqui

As you were reading Shayari by Saghar Siddiqui

Similar Writers

our suggestion based on Saghar Siddiqui

Similar Moods

As you were reading Wajood Shayari Shayari