dekha hai zindagi ko kuch itne qareeb se | देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से - Sahir Ludhianvi

dekha hai zindagi ko kuch itne qareeb se
chehre tamaam lagne lage hain ajeeb se

ai rooh-e-asr jaag kahaan so rahi hai tu
awaaz de rahe hain payambar saleeb se

is rengti hayaat ka kab tak uthaaye baar
beemaar ab uljhane lage hain tabeeb se

har gaam par hai majma-e-ushshaq muntazir
maqtal ki raah milti hai koo-e-habeeb se

is tarah zindagi ne diya hai hamaara saath
jaise koi nibaah raha ho raqeeb se

देखा है ज़िंदगी को कुछ इतने क़रीब से
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से

ऐ रूह-ए-अस्र जाग कहाँ सो रही है तू
आवाज़ दे रहे हैं पयम्बर सलीब से

इस रेंगती हयात का कब तक उठाएँ बार
बीमार अब उलझने लगे हैं तबीब से

हर गाम पर है मजमा-ए-उश्शाक़ मुंतज़िर
मक़्तल की राह मिलती है कू-ए-हबीब से

इस तरह ज़िंदगी ने दिया है हमारा साथ
जैसे कोई निबाह रहा हो रक़ीब से

- Sahir Ludhianvi
2 Likes

Relationship Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Relationship Shayari Shayari