ye vaadiyaan ye fazaaen bula rahi hain tumhein | ये वादियां ये फ़ज़ाएं बुला रही हैं तुम्हें - Sahir Ludhianvi

ye vaadiyaan ye fazaaen bula rahi hain tumhein
khamoshiyon ki sadaaen bula rahi hain tumhein

taras rahe hain jawaan phool hont choone ko
machal machal ke hawaayein bula rahi hain tumhein

tumhaari zulfon se khushboo ki bheek lene ko
jhuki jhuki si ghataaen bula rahi hain tumhein

haseen champai pairo'n ko jab se dekha hai
nadi ki mast adaayein bula rahi hain tumhein

mera kaha na suno un ki baat to sun lo
har ek dil ki duaayein bula rahi hain tumhein

ये वादियां ये फ़ज़ाएं बुला रही हैं तुम्हें
ख़मोशियों की सदाएं बुला रही हैं तुम्हें

तरस रहे हैं जवां फूल होंट छूने को
मचल मचल के हवाएं बुला रही हैं तुम्हें

तुम्हारी ज़ुल्फ़ों से ख़ुशबू की भीक लेने को
झुकी झुकी सी घटाएं बुला रही हैं तुम्हें

हसीन चम्पई पैरों को जब से देखा है
नदी की मस्त अदाएं बुला रही हैं तुम्हें

मिरा कहा न सुनो उन की बात तो सुन लो
हर एक दिल की दुआएं बुला रही हैं तुम्हें

- Sahir Ludhianvi
6 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari