mohabbat tark ki main ne garebaan si liya main ne | मोहब्बत तर्क की मैं ने गरेबाँ सी लिया मैं ने - Sahir Ludhianvi

mohabbat tark ki main ne garebaan si liya main ne
zamaane ab to khush ho zahar ye bhi pee liya main ne

abhi zinda hoon lekin sochta rehta hoon khilwat mein
ki ab tak kis tamannaa ke sahaare jee liya main ne

unhen apna nahin saka magar itna bhi kya kam hai
ki kuch muddat haseen khwaabon mein kho kar jee liya main ne

bas ab to daaman-e-dil chhod do bekar umeedo
bahut dukh sah liye main ne bahut din jee liya main ne

मोहब्बत तर्क की मैं ने गरेबाँ सी लिया मैं ने
ज़माने अब तो ख़ुश हो ज़हर ये भी पी लिया मैं ने

अभी ज़िंदा हूँ लेकिन सोचता रहता हूँ ख़ल्वत में
कि अब तक किस तमन्ना के सहारे जी लिया मैं ने

उन्हें अपना नहीं सकता मगर इतना भी क्या कम है
कि कुछ मुद्दत हसीं ख़्वाबों में खो कर जी लिया मैं ने

बस अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उम्मीदो
बहुत दुख सह लिए मैं ने बहुत दिन जी लिया मैं ने

- Sahir Ludhianvi
0 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sahir Ludhianvi

As you were reading Shayari by Sahir Ludhianvi

Similar Writers

our suggestion based on Sahir Ludhianvi

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari