use is waqt is mehfil mein hona chahiye tha khair | उसे इस वक़्त इस महफ़िल में होना चाहिए था ख़ैर - Sapna Moolchandani

use is waqt is mehfil mein hona chahiye tha khair
muhabbat mein ana ko dil se khona chahiye tha khair

bichhadte waqt uski aankh mein kuchh bhi nahin dekha
use do pal to palkon ko bhigona chahiye tha khair

mujhe masroof lamhon ne kahi furqat ki sacchaai
use bas ek achha sa khilauna chahiye tha khair

mere qisson mein sunkar naam uska log hanste the
use is baat par thoda to rona chahiye tha khair

mere dil ki tasalli ke liye tasveer bheji hai
tumhein is waqt mere paas hona chahiye tha khair

उसे इस वक़्त इस महफ़िल में होना चाहिए था ख़ैर
मुहब्बत में अना को दिल से खोना चाहिए था ख़ैर

बिछड़ते वक़्त उसकी आँख में कुछ भी नहीं देखा
उसे दो पल तो पलकों को भिगोना चाहिए था ख़ैर

मुझे मसरूफ़ लम्हों ने कही फ़ुर्सत की सच्चाई
उसे बस एक अच्छा सा खिलौना चाहिए था ख़ैर

मेरे क़िस्सों में सुनकर नाम उसका लोग हँसते थे
उसे इस बात पर थोड़ा तो रोना चाहिए था ख़ैर

मेरे दिल की तसल्ली के लिए तस्वीर भेजी है
तुम्हें इस वक़्त मेरे पास होना चाहिए था ख़ैर

- Sapna Moolchandani
12 Likes

Mehman Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sapna Moolchandani

As you were reading Shayari by Sapna Moolchandani

Similar Writers

our suggestion based on Sapna Moolchandani

Similar Moods

As you were reading Mehman Shayari Shayari