paraai aag mein rishta kahaan sambhalta hai | पराई आग में रिश्ता कहाँ सँभलता है - Saurabh Sharma 'sadaf'

paraai aag mein rishta kahaan sambhalta hai
ki aandhiyon mein dupatta kahaan sambhalta hai

kami rahi bhi to bechainiyaan nahin jaati
baras pade bhi to paisa kahaan sambhalta hai

kahaani car to kirdaar maar saka hai
par itni baat se qissa kahaan sambhalta hai

bade-badoon ko bhi izzat hazm nahin hoti
bade-badoon se bhi lahja kahaan sambhalta hai

kabhi kabhi to padosi sanbhaal lete the
par ab to maa se bhi baccha kahaan sambhalta hai

पराई आग में रिश्ता कहाँ सँभलता है
कि आँधियों में दुपट्टा कहाँ सँभलता है

कमी रही भी तो बेचैनियाँ नहीं जाती
बरस पड़े भी तो पैसा कहाँ सँभलता है

कहानी कार तो किरदार मार सकता है
पर इतनी बात से क़िस्सा कहाँ सँभलता है

बड़े-बड़ों को भी इज़्ज़त हज़म नहीं होती
बड़े-बड़ों से भी लहजा कहाँ सँभलता है

कभी कभी तो पड़ोसी सँभाल लेते थे
पर अब तो माँ से भी बच्चा कहाँ सँभलता है

- Saurabh Sharma 'sadaf'
1 Like

Baaten Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Saurabh Sharma 'sadaf'

As you were reading Shayari by Saurabh Sharma 'sadaf'

Similar Writers

our suggestion based on Saurabh Sharma 'sadaf'

Similar Moods

As you were reading Baaten Shayari Shayari