bin maange mil raha ho to khwaahish fuzool hai | बिन माँगे मिल रहा हो तो ख़्वाहिश फ़ुज़ूल है - Shahid Zaki

bin maange mil raha ho to khwaahish fuzool hai
suraj se raushni ki guzarish fuzool hai

kisi ne kaha tha tooti hui naav mein chalo
dariya ke saath aap ki ranjish fuzool hai

naabood ke suraagh ki soorat nikaalie
maujood ki numood o numaish fuzool hai

main aap apni maut ki tayyaariyon mein hoon
mere khilaaf aap ki saazish fuzool hai

ai aasmaan teri inaayat baja magar
faslen paki hui hon to baarish fuzool hai

jee chahta hai kah doon zameen o zamaan se main
manzil agar nahin hai to gardish fuzool hai

inaam-e-nang-o-naam mere kaam ke nahin
majzoob hoon so meri sataish fuzool hai

बिन माँगे मिल रहा हो तो ख़्वाहिश फ़ुज़ूल है
सूरज से रौशनी की गुज़ारिश फ़ुज़ूल है

किसी ने कहा था टूटी हुई नाव में चलो
दरिया के साथ आप की रंजिश फ़ुज़ूल है

नाबूद के सुराग़ की सूरत निकालिए
मौजूद की नुमूद ओ नुमाइश फ़ुज़ूल है

मैं आप अपनी मौत की तय्यारियों में हूँ
मेरे ख़िलाफ़ आप की साज़िश फ़ुज़ूल है

ऐ आसमान तेरी इनायत बजा मगर
फ़सलें पकी हुई हों तो बारिश फ़ुज़ूल है

जी चाहता है कह दूँ ज़मीन ओ ज़माँ से मैं
मंज़िल अगर नहीं है तो गर्दिश फ़ुज़ूल है

इनआम-ए-नंग-ओ-नाम मिरे काम के नहीं
मज्ज़ूब हूँ सो मेरी सताइश फ़ुज़ूल है

- Shahid Zaki
1 Like

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shahid Zaki

As you were reading Shayari by Shahid Zaki

Similar Writers

our suggestion based on Shahid Zaki

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari