aarzoo jab ufaan par aayi | आरज़ू जब उफ़ान पर आई - Shakir Dehlvi

aarzoo jab ufaan par aayi
baat dil ki zabaan par aayi

aaj phir dhoondhte hue mujhko
yaad uski makaan par aayi

jaan ka mol kuch nahin samjha
baat jab aan baan par aayi

zehan o dil mein zahar samaaya tha
aur tohmat zabaan par aayi

har zaroorat pahaad hai ab to
umr jabse dhalaan par aayi

आरज़ू जब उफ़ान पर आई
बात दिल की ज़बान पर आई

आज फिर ढूंढते हुए मुझको
याद उसकी मकान पर आई

जान का मोल कुछ नहीं समझा
बात जब आन बान पर आई

ज़हन ओ दिल में ज़हर समाया था
और तोहमत ज़बान पर आई

हर ज़रूरत पहाड़ है अब तो
उम्र जबसे ढलान पर आई

- Shakir Dehlvi
3 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shakir Dehlvi

As you were reading Shayari by Shakir Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Shakir Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari