tan se jab tak saans ka rishta rahega | तन से जब तक साँस का रिश्ता रहेगा - Shariq Kaifi

tan se jab tak saans ka rishta rahega
mere ashkon mein tira hissa rahega

door tak koi shanaasa ho nahin ho
bheed mein achha magar lagta rahega

aise chhutkaara nahin dena hai us ko
main agar mar jaaun to kaisa rahega

tay to hai alagaav bas ye sochna hai
kaun si rut mein ye dukh achha rahega

khud se meri sulh mumkin hi nahin hai
jab talak is ghar mein aaina rahega

yun to ab bistar hai aur beemaar lekin
saans lene mein maza aata rahega

main ne kitne din kisi ko yaad rakha
vo bhi kyun mere liye rota rahega

तन से जब तक साँस का रिश्ता रहेगा
मेरे अश्कों में तिरा हिस्सा रहेगा

दूर तक कोई शनासा हो नहीं हो
भीड़ में अच्छा मगर लगता रहेगा

ऐसे छुटकारा नहीं देना है उस को
मैं अगर मर जाऊँ तो कैसा रहेगा

तय तो है अलगाव बस ये सोचना है
कौन सी रुत में ये दुख अच्छा रहेगा

ख़ुद से मेरी सुल्ह मुमकिन ही नहीं है
जब तलक इस घर में आईना रहेगा

यूँ तो अब बिस्तर है और बीमार लेकिन
साँस लेने में मज़ा आता रहेगा

मैं ने कितने दिन किसी को याद रक्खा
वो भी क्यूँ मेरे लिए रोता रहेगा

- Shariq Kaifi
4 Likes

Yaad Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Shariq Kaifi

As you were reading Shayari by Shariq Kaifi

Similar Writers

our suggestion based on Shariq Kaifi

Similar Moods

As you were reading Yaad Shayari Shayari