zindagi tujh ko jiya hai koi afsos nahin | ज़िंदगी तुझ को जिया है कोई अफ़्सोस नहीं - Sudarshan Fakir

zindagi tujh ko jiya hai koi afsos nahin
zahar khud main ne piya hai koi afsos nahin

main ne mujrim ko bhi mujrim na kaha duniya mein
bas yahi jurm kiya hai koi afsos nahin

meri qismat mein likhe the ye unhin ke aansoo
dil ke zakhamon ko siya hai koi afsos nahin

ab gire sang ki sheeshon ki ho baarish faakir
ab kafan odh liya hai koi afsos nahin

ज़िंदगी तुझ को जिया है कोई अफ़्सोस नहीं
ज़हर ख़ुद मैं ने पिया है कोई अफ़्सोस नहीं

मैं ने मुजरिम को भी मुजरिम न कहा दुनिया में
बस यही जुर्म किया है कोई अफ़्सोस नहीं

मेरी क़िस्मत में लिखे थे ये उन्हीं के आंसू
दिल के ज़ख़्मों को सिया है कोई अफ़्सोस नहीं

अब गिरे संग कि शीशों की हो बारिश 'फ़ाकिर'
अब कफ़न ओढ़ लिया है कोई अफ़्सोस नहीं

- Sudarshan Fakir
3 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Sudarshan Fakir

As you were reading Shayari by Sudarshan Fakir

Similar Writers

our suggestion based on Sudarshan Fakir

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari