mere honton ko chhua chahti hai | मेरे होंटों को छुआ चाहती है - Swapnil Tiwari

mere honton ko chhua chahti hai
khaamoshi tu bhi ye kya chahti hai

mere kamre mein nahin hai jo kahi
ab vo khidki bhi khula chahti hai

zindagi gar na udhedegi mujhe
kis liye mera sira chahti hai

saare hangaame hain parde par ab
film bhi khatm hua chahti hai

kab se baithi hai udaasi pe meri
yaad ki titli uda chahti hai

noor mitti mein hi hoga un ki
jin charaagon ko hawa chahti hai

mere andar hai ummas is darja
mujh mein baarish si hua chahti hai

bhor aayi hai irezar ki tarah
shab ki tahreer mita chahti hai

aasmaan mein hain saraabo ki si
jin ghataon ko hawa chahti hai

chaand ka phool hai khilne ko phir
shaam ab shab ko chhua chahti hai

phir na lautegi meri aankhon mein
neend rangon si uda chahti hai

मेरे होंटों को छुआ चाहती है
ख़ामुशी! तू भी ये क्या चाहती है

मेरे कमरे में नहीं है जो कहीं
अब वो खिड़की भी खुला चाहती है

ज़िंदगी! गर न उधेड़ेगी मुझे
किस लिए मेरा सिरा चाहती है

सारे हंगामे हैं पर्दे पर अब
फ़िल्म भी ख़त्म हुआ चाहती है

कब से बैठी है उदासी पे मेरी
याद की तितली उड़ा चाहती है

नूर मिट्टी में ही होगा उन की
जिन चराग़ों को हवा चाहती है

मेरे अंदर है उम्मस इस दर्जा
मुझ में बारिश सी हुआ चाहती है

भोर आई है इरेज़र की तरह
शब की तहरीर मिटा चाहती है

आसमाँ में हैं सराबों की सी
जिन घटाओं को हवा चाहती है

चाँद का फूल है खिलने को फिर
शाम अब शब को छुआ चाहती है

फिर न लौटेगी मिरी आँखों में
नींद रंगों सी उड़ा चाहती है

- Swapnil Tiwari
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Swapnil Tiwari

As you were reading Shayari by Swapnil Tiwari

Similar Writers

our suggestion based on Swapnil Tiwari

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari