us ki aankhon mein mohabbat ki chamak aaj bhi hai | उस की आँखों में मोहब्बत की चमक आज भी है - Tanveer Ghazi

us ki aankhon mein mohabbat ki chamak aaj bhi hai
us ko haalaanki mere pyaar pe shak aaj bhi hai

naav mein baith ke dhoye the kabhi haath us ne
saare taalaab mein mehndi ki mahak aaj bhi hai

meri ik shirt mein kal us ne button taanka tha
shehar ke shor mein choodi ki khanak aaj bhi hai

use kho kar bhi na khone ki khushi ab na rahi
use pa kar bhi na paane ki kasak aaj bhi hai

zakham sab sookh gaye hain mere marham ke bina
mere ik dost ki mutthi mein namak aaj bhi hai

उस की आँखों में मोहब्बत की चमक आज भी है
उस को हालाँकि मिरे प्यार पे शक आज भी है

नाव में बैठ के धोए थे कभी हाथ उस ने
सारे तालाब में मेहंदी की महक आज भी है

मेरी इक शर्ट में कल उस ने बटन टाँका था
शहर के शोर में चूड़ी की खनक आज भी है

उसे खो कर भी न खोने की ख़ुशी अब न रही
उसे पा कर भी न पाने की कसक आज भी है

ज़ख़्म सब सूख गए हैं मिरे मरहम के बिना
मेरे इक दोस्त की मुट्ठी में नमक आज भी है

- Tanveer Ghazi
7 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tanveer Ghazi

As you were reading Shayari by Tanveer Ghazi

Similar Writers

our suggestion based on Tanveer Ghazi

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari