ik haveli hoon us ka dar bhi hoon | इक हवेली हूँ उस का दर भी हूँ - Tehzeeb Hafi

ik haveli hoon us ka dar bhi hoon
khud hi aangan khud hi shajar bhi hoon

apni masti mein bahta dariya hoon
main kinaara bhi hoon bhanwar bhi hoon

aasmaan aur zameen ki wus'at dekh
main idhar bhi hoon aur udhar bhi hoon

khud hi main khud ko likh raha hoon khat
aur main apna nama-bar bhi hoon

dastaan hoon main ik taveel magar
tu jo sun le to mukhtasar bhi hoon

ek faldar ped hoon lekin
waqt aane pe be-samar bhi hoon

इक हवेली हूँ उस का दर भी हूँ
ख़ुद ही आँगन ख़ुद ही शजर भी हूँ

अपनी मस्ती में बहता दरिया हूँ
मैं किनारा भी हूँ भँवर भी हूँ

आसमाँ और जमीं की वुसअत देख
मैं इधर भी हूँ और उधर भी हूँ

ख़ुद ही मैं ख़ुद को लिख रहा हूँ ख़त
और मैं अपना नामा-बर भी हूँ

दास्ताँ हूँ मैं इक तवील मगर
तू जो सुन ले तो मुख़्तसर भी हूँ

एक फलदार पेड़ हूँ लेकिन
वक़्त आने पे बे-समर भी हूँ

- Tehzeeb Hafi
16 Likes

Falak Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Falak Shayari Shayari