shor karunga aur na kuchh bhi boloonunga | शोर करूँगा और न कुछ भी बोलूँगा - Tehzeeb Hafi

shor karunga aur na kuchh bhi boloonunga
khaamoshi se apna rona ro loonga

saari umr isee khwaahish mein guzri hai
dastak hogi aur darwaaza khooloonunga

tanhaai mein khud se baatein karne hain
mere munh mein jo aayega boloonunga

raat bahut hai tum chaaho to so jaao
mera kya hai main din mein bhi so loonga

tum ko dil ki baat bataani hai lekin
aankhen band karo to mutthi khooloonunga

शोर करूँगा और न कुछ भी बोलूँगा
ख़ामोशी से अपना रोना रो लूँगा

सारी उम्र इसी ख़्वाहिश में गुज़री है
दस्तक होगी और दरवाज़ा खोलूँगा

तन्हाई में ख़ुद से बातें करनी हैं
मेरे मुँह में जो आएगा बोलूँगा

रात बहुत है तुम चाहो तो सो जाओ
मेरा क्या है मैं दिन में भी सो लूँगा

तुम को दिल की बात बतानी है लेकिन
आँखें बंद करो तो मुट्ठी खोलूँगा

- Tehzeeb Hafi
72 Likes

Budhapa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Budhapa Shayari Shayari