thoda likkha aur ziyaada chhod diya | थोड़ा लिक्खा और ज़ियादा छोड़ दिया - Tehzeeb Hafi

thoda likkha aur ziyaada chhod diya
aane waalon ke liye rasta chhod diya

tum kya jaano us dariya par kya guzri
tumne to bas paani bharna chhod diya

ladkiyaan ishq mein kitni paagal hoti hain
phone baja aur choolha jalta chhod diya

roz ik patta mujh mein aa girta hai
jab se maine jungle jaana chhod diya

bas kaanon par haath rakhe the thodi der
aur phir us aawaaz ne peecha chhod diye

थोड़ा लिक्खा और ज़ियादा छोड़ दिया
आने वालों के लिए रस्ता छोड़ दिया

तुम क्या जानो उस दरिया पर क्या गुज़री
तुमने तो बस पानी भरना छोड़ दिया

लड़कियाँ इश्क़ में कितनी पागल होती हैं
फ़ोन बजा और चूल्हा जलता छोड़ दिया

रोज़ इक पत्ता मुझ में आ गिरता है
जब से मैंने जंगल जाना छोड़ दिया

बस कानों पर हाथ रखे थे थोड़ी देर
और फिर उस आवाज़ ने पीछा छोड़ दिए

- Tehzeeb Hafi
181 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari