uske chaahne waalon ka aaj uski gali mein dharna hai | उसके चाहने वालों का आज उसकी गली में धरना है - Tehzeeb Hafi

uske chaahne waalon ka aaj uski gali mein dharna hai
yahin pe ruk jaao to theek hai aage jaake marna hai

rooh kisi ko saunp aaye ho to ye jism bhi le jaao
vaise bhi maine is khaali bottle ka kya karna hai

aankh se aansu dil se dard umad aane par hairat kya
mujhe pata tha usne har bartan ka nootan bharna hai

उसके चाहने वालों का आज उसकी गली में धरना है
यहीं पे रुक जाओ तो ठीक है आगे जाके मरना है

रूह किसी को सौंप आये हो तो ये जिस्म भी ले जाओ
वैसे भी मैंने इस खाली बोतल का क्या करना है

आँख से आँसू दिल से दर्द उमड़ आने पर हैरत क्या
मुझे पता था उसने हर बर्तन का नूतन भरना है

- Tehzeeb Hafi
49 Likes

Bewafa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Bewafa Shayari Shayari