jab se usne kheecha hai khidki ka parda ek taraf | जब से उसने खींचा है खिड़की का पर्दा एक तरफ़ - Tehzeeb Hafi

jab se usne kheecha hai khidki ka parda ek taraf
uska kamra ek taraf hai baaki duniya ek taraf

maine ab tak jitne bhi logon mein khud ko baanta hai
bachpan se rakhta aaya hoon tera hissa ek taraf

ek taraf mujhe jaldi hai uske dil mein ghar karne ki
ek taraf vo kar deta hai rafta rafta ek taraf

yun to aaj bhi tera dukh dil dahla deta hai lekin
tujh se juda hone ke baad ka pehla hafta ek taraf

uski aankhon ne mujhse meri khuddaari cheeni varna
paanv ki thokar se kar deta tha main duniya ek taraf

meri marzi thi main zarre chunta ya lahren chunta
usne sehra ek taraf rakha aur dariya ek taraf

जब से उसने खींचा है खिड़की का पर्दा एक तरफ़
उसका कमरा एक तरफ़ है बाक़ी दुनिया एक तरफ़

मैंने अब तक जितने भी लोगों में ख़ुद को बाँटा है
बचपन से रखता आया हूँ तेरा हिस्सा एक तरफ़

एक तरफ़ मुझे जल्दी है उसके दिल में घर करने की
एक तरफ़ वो कर देता है रफ़्ता रफ़्ता एक तरफ़

यूँ तो आज भी तेरा दुख दिल दहला देता है लेकिन
तुझ से जुदा होने के बाद का पहला हफ़्ता एक तरफ़

उसकी आँखों ने मुझसे मेरी ख़ुद्दारी छीनी वरना
पाँव की ठोकर से कर देता था मैं दुनिया एक तरफ़

मेरी मर्ज़ी थी मैं ज़र्रे चुनता या लहरें चुनता
उसने सहरा एक तरफ़ रक्खा और दरिया एक तरफ़

- Tehzeeb Hafi
71 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari