ek aur shakhs chhodkar chala gaya to kya hua | एक और शख़्स छोड़कर चला गया तो क्या हुआ - Tehzeeb Hafi

ek aur shakhs chhodkar chala gaya to kya hua
hamaare saath kaun sa ye pehli martaba hua

azl se in hateliyon mein hijr ki lakeer thi
tumhaara dukh to jaise mere haath mein bada hua

mere khilaaf dushmanon ki saf mein hai vo aur main
bahut bura lagunga us par teer kheenchta hua

एक और शख़्स छोड़कर चला गया तो क्या हुआ
हमारे साथ कौन सा ये पहली मर्तबा हुआ।

अज़ल से इन हथेलियों में हिज्र की लकीर थी
तुम्हारा दुःख तो जैसे मेरे हाथ में बड़ा हुआ

मेरे खिलाफ दुश्मनों की सफ़ में है वो और मैं
बहुत बुरा लगूँगा उस पर तीर खींचता हुआ

- Tehzeeb Hafi
63 Likes

Dard Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Dard Shayari Shayari