khaak hi khaak thi aur khaak bhi kya kuch nahin tha | ख़ाक ही ख़ाक थी और ख़ाक भी क्या कुछ नहीं था - Tehzeeb Hafi

khaak hi khaak thi aur khaak bhi kya kuch nahin tha
main jab aaya to mere ghar ki jagah kuch nahin tha

kya karoon tujhse khayaanat nahin kar saka main
varna us aankh mein mere liye kya kuch nahin tha

ye bhi sach hai mujhe kabhi usne kuch na kaha
ye bhi sach hai ki us aurat se chhupa kuch nahin tha

ab vo mere hi kisi dost ki mankooha hai
mai palat jaata magar peeche bacha kuch nahin tha

ख़ाक ही ख़ाक थी और ख़ाक भी क्या कुछ नहीं था
मैं जब आया तो मेरे घर की जगह कुछ नहीं था।

क्या करूं तुझसे ख़यानत नहीं कर सकता मैं
वरना उस आंख में मेरे लिए क्या कुछ नहीं था।

ये भी सच है मुझे कभी उसने कुछ ना कहा
ये भी सच है कि उस औरत से छुपा कुछ नहीं था।

अब वो मेरे ही किसी दोस्त की मनकूहा है
मै पलट जाता मगर पीछे बचा कुछ नहीं था।

- Tehzeeb Hafi
52 Likes

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari