jab kisi ek ko rihaa kiya jaaye | जब किसी एक को रिहा किया जाए - Tehzeeb Hafi

jab kisi ek ko rihaa kiya jaaye
sab asiroon se mashwara kiya jaaye

rah liya jaaye apne hone par
apne marne pe hausla kiya jaaye

ishq karne mein kya buraai hai
haan kiya jaaye baarha kiya jaaye

mera ik yaar sindh ke us paar
na-khudaon se raabta kiya jaaye

meri naqlein utaarne laga hai
aaine ka batao kya kiya jaaye

khaamoshi se lada hua ik ped
is se chal kar mukaalima kiya jaaye

जब किसी एक को रिहा किया जाए
सब असीरों से मशवरा किया जाए

रह लिया जाए अपने होने पर
अपने मरने पे हौसला किया जाए

इश्क़ करने में क्या बुराई है
हाँ किया जाए बारहा किया जाए

मेरा इक यार सिंध के उस पार
ना-ख़ुदाओं से राब्ता किया जाए

मेरी नक़लें उतारने लगा है
आईने का बताओ क्या किया जाए

ख़ामुशी से लदा हुआ इक पेड़
इस से चल कर मुकालिमा किया जाए

- Tehzeeb Hafi
27 Likes

Bahana Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Bahana Shayari Shayari