maheenon baad daftar aa rahe hain | महीनों बाद दफ्तर आ रहे हैं - Tehzeeb Hafi

maheenon baad daftar aa rahe hain
ham ek sadme se baahar aa rahe hain

teri baahon se dil ukta gaya hain
ab is jhoole mein chakkar aa rahe hain

kahaan soya hai chaukidaar mera
ye kaise log andar aa rahe hain

samandar kar chuka tasleem hamko
khajaane khud hi oopar aa rahe hain

yahi ek din bacha tha dekhne ko
use bas mein bitha kar aa rahe hain

महीनों बाद दफ्तर आ रहे हैं
हम एक सदमे से बाहर आ रहे हैं

तेरी बाहों से दिल उकता गया हैं
अब इस झूले में चक्कर आ रहे हैं

कहां सोया है चौकीदार मेरा
ये कैसे लोग अंदर आ रहे हैं

समंदर कर चुका तस्लीम हमको
खजाने ख़ुद ही ऊपर आ रहे हैं

यही एक दिन बचा था देखने को
उसे बस में बिठा कर आ रहे हैं

- Tehzeeb Hafi
96 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Tehzeeb Hafi

As you were reading Shayari by Tehzeeb Hafi

Similar Writers

our suggestion based on Tehzeeb Hafi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari