chaand sitaare phool parinde shaam savera ek taraf | चाँद सितारे फूल परिंदे शाम सवेरा एक तरफ़ - Varun Anand

chaand sitaare phool parinde shaam savera ek taraf
saari duniya uska charba uska chehra ek taraf

vo ladhkar bhi so jaaye to uska maatha choomun main
usse muhabbat ek taraf hai usse jhagda ek taraf

jis shay par vo ungli rakh de usko vo dilwaani hai
uski khushiyaan sab se awwal sasta mehnga ek taraf

zakhamon par marham lagwao lekin uske haathon se
chaarasaazi ek taraf hai uska choona ek taraf

saari duniya jo bhi bole sab kuchh shor sharaaba hai
sab ka kehna ek taraf hai uska kehna ek taraf

usne saari duniya maangi maine usko maanga hai
uske sapne ek taraf hai mera sapna ek taraf

चाँद सितारे फूल परिंदे शाम सवेरा एक तरफ़
सारी दुनिया उसका चर्बा उसका चेहरा एक‌ तरफ़

वो लड़कर भी सो जाए तो उसका माथा चूमूँ मैं
उससे मुहब्बत एक तरफ़ है उससे झगड़ा एक तरफ़

जिस शय पर वो उँगली रख दे उसको वो दिलवानी है
उसकी ख़ुशियाँ सब से अव्वल सस्ता महँगा एक तरफ़

ज़ख़्मों पर मरहम लगवाओ लेकिन उसके हाथों से
चारासाज़ी एक तरफ़ है उसका छूना एक तरफ़

सारी दुनिया जो भी बोले सब कुछ शोर शराबा है
सब का कहना एक तरफ़ है उसका कहना एक तरफ़

उसने सारी दुनिया माँगी मैंने उसको माँगा है
उसके सपने एक तरफ़ है मेरा सपना एक तरफ़

- Varun Anand
266 Likes

Environment Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Environment Shayari Shayari