kisi ke vaaste gul hain kisi ko khaar hain ham log | किसी के वास्ते गुल हैं किसी को ख़ार हैं हम लोग - Varun Anand

kisi ke vaaste gul hain kisi ko khaar hain ham log
kisi ke jaani dushman hain kisi ke yaar hain ham log

muhabbat kar to lete hain magar majbooriyon ke saath
hamaara mas'ala ye hai dihaadi-daar hain ham log

use kehna dava de aake hamko apne haathon se
use kehna kai din se bade beemaar hain ham log

daro deewaar se rishta banaakar dukh hi hona hai
hamaara ghar nahin hai ye kirayedaar hain ham log

hamaare jism par duniya ka ik bazaar chaspaan hai
kisi sarkaari building ki koi deewaar hain ham log

kahi qasmen nibhaate hain kahi par tod dete hain
kahi eimaan waale hain kahi gaddaar hain ham log

किसी के वास्ते गुल हैं किसी को ख़ार हैं हम लोग
किसी के जानी दुशमन हैं किसी के यार हैं हम लोग

मुहब्बत कर तो लेते हैं मगर मजबूरियों के साथ
हमारा मसअला ये है दिहाड़ी-दार हैं हम लोग

उसे कहना दवा दे आके हमको अपने हाथों से
उसे कहना कई दिन से बड़े बीमार हैं हम लोग

दरो- दीवार से रिश्ता बनाकर दुख ही होना है
हमारा घर नहीं है ये किराएदार हैं हम लोग

हमारे जिस्म पर दुनिया का इक बाज़ार चस्पाँ है
किसी सरकारी बिलडिंग की कोई दीवार हैं हम लोग

कहीं क़समें निभाते हैं कहीं पर तोड़ देते हैं
कहीं ईमान वाले हैं कहीं गद्दार हैं हम लोग

- Varun Anand
7 Likes

Revenge Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Varun Anand

As you were reading Shayari by Varun Anand

Similar Writers

our suggestion based on Varun Anand

Similar Moods

As you were reading Revenge Shayari Shayari