uski gali jitna sunsaan nahin hota hai | उसकी गली जितना सुनसान नहीं होता है - Vikram Gaur Vairagi

uski gali jitna sunsaan nahin hota hai
veeraana itna veeraan nahin hota hai

ishq mein koi bhi ehsaan nahin hota hai
tu nain maanta hai mat maan nahin hota hai

vo us baat pe mujhse jhagda kar lete hain
jiska mujhko bilkul dhyaan nahin hota hai

kuch rishton mein dil ko azaadi nain rahti
kuch kamron mein raushandaan nahin hota hai

dost bhikaari bhi aate hain darwaaze par
har aane waala mehmaan nahin hota hai

उसकी गली जितना सुनसान नहीं होता है
वीराना इतना वीरान नहीं होता है

इश्क़ में कोई भी एहसान नहीं होता है
तू नइँ मानता है मत मान नहीं होता है

वो उस बात पे मुझसे झगड़ा कर लेते हैं
जिसका मुझको बिलकुल ध्यान नहीं होता है

कुछ रिश्तों में दिल को आज़ादी नइँ रहती
कुछ कमरों में रौशनदान नहीं होता है

दोस्त भिखारी भी आते हैं दरवाज़े पर
हर आने वाला मेहमान नहीं होता है

- Vikram Gaur Vairagi
19 Likes

Violence Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vikram Gaur Vairagi

As you were reading Shayari by Vikram Gaur Vairagi

Similar Writers

our suggestion based on Vikram Gaur Vairagi

Similar Moods

As you were reading Violence Shayari Shayari