vo jo likha hai sab kitaabon mein | वो जो लिखा है सब किताबों में - Vishal Bagh

vo jo likha hai sab kitaabon mein
vo hi shaamil nahin nisaabon mein

uski taaseer aise kaatee hai
hamne gholaa use sharaabon mein

ye meri hichakiyaan bataati hain
main baqaaya hoon kuch hisaabon mein

to koi tajruba hi kar len kya
kuch nahin mil raha kitaabon mein

hum use yoon hi mil gaye hote
usne dhoondha nahin kharaabon mein

aao aur aa ke phir bichhad jaao
kuch izaafa karo azaabon mein

वो जो लिखा है सब किताबों में
वो ही शामिल नहीं निसाबों में

उसकी तासीर ऐसे काटी है
हमने घोला उसे शराबों में

ये मेरी हिचकियाँ बताती हैं
मैं बक़ाया हूँ कुछ हिसाबों में

तो कोई तजरुबा ही कर लें क्या
कुछ नहीं मिल रहा किताबों में

हम उसे यूं ही मिल गए होते
उसने ढूंढा नहीं ख़राबों में

आओ और आ के फिर बिछड़ जाओ
कुछ इज़ाफ़ा करो अज़ाबों में

- Vishal Bagh
7 Likes

Kitaaben Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vishal Bagh

As you were reading Shayari by Vishal Bagh

Similar Writers

our suggestion based on Vishal Bagh

Similar Moods

As you were reading Kitaaben Shayari Shayari