meri nazar ke saleeke mein kya nahin aata | मेरी नजर के सलीके में क्या नहीं आता - Waseem Barelvi

meri nazar ke saleeke mein kya nahin aata
bas ik teri taraf hi dekhna nahin aata

akela chalna to mera naseeb tha ki mujhe
kisi ke saath safar baantna nahin aata

udhar to jaate hain raaste tamaam hone ko
idhar se ho ke koi raasta nahin aata

jagaana aata hai usko tamaam tareekon se
gharo pe dastaken dene khuda nahin aata

yahaan pe tum hi nahin aas paas aur bhi hain
par us tarah se tumhein sochna nahin aata

pade raho yoon hi sahme hue diyon ki tarah
agar hawaon ke par baandhna nahin aata

मेरी नजर के सलीके में क्या नहीं आता
बस इक तेरी तरफ ही देखना नहीं आता

अकेले चलना तो मेरा नसीब था कि मुझे
किसी के साथ सफर बांटना नहीं आता

उधर तो जाते हैं रस्ते तमाम होने को
इधर से हो के कोई रास्ता नहीं आता

जगाना आता है उसको तमाम तरीकों से
घरों पे दस्तकें देने ख़ुदा नहीं आता

यहां पे तुम ही नहीं आस पास और भी हैं
पर उस तरह से तुम्हें सोचना नहीं आता

पड़े रहो यूं ही सहमे हुए दियों की तरह
अगर हवाओं के पर बांधना नहीं आता

- Waseem Barelvi
6 Likes

Deedar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Waseem Barelvi

As you were reading Shayari by Waseem Barelvi

Similar Writers

our suggestion based on Waseem Barelvi

Similar Moods

As you were reading Deedar Shayari Shayari