isse aapka dukh bhi ho jaayega achha khaasa kam | इससे आपका दुख भी हो जाएगा अच्छा खासा कम - Zia Mazkoor

isse aapka dukh bhi ho jaayega achha khaasa kam
mujh par guzre lamhon mein se kar do bas ek lamha kam

bade-bade shehron mein koi kaise kisi se pyaar kare
jitne aamne saamne ghar hai utna aana jaana kam

uske pistol se ek goli kam hone ka matlab hai
apne shehar mein udne waale gol se ek parinda kam

kal to vo aur uski kashti bas jalne hi waale the
dariya us par kaafi garam tha lekin aag se thoda kam

sadke jaaun un cheezon par jinko uske haath lage
ajab mechanic tha vo jisne toda ziyaada joda kam

इससे आपका दुख भी हो जाएगा अच्छा खासा कम
मुझ पर गुज़रे लम्हों में से कर दो बस एक लम्हा कम

बड़े-बड़े शहरों में कोई कैसे किसी से प्यार करे
जितने आमने सामने घर है उतना आना जाना कम

उसके पिस्टल से एक गोली कम होने का मतलब है
अपने शहर में उड़ने वाले गोल से एक परिंदा कम

कल तो वो और उसकी कश्ती बस जलने ही वाले थे
दरिया उस पर काफी गरम था लेकिन आग से थोड़ा कम

सदके जाऊँ उन चीजों पर जिनको उसके हाथ लगे
अजब मैकेनिक था वो जिसने तोड़ा ज़्यादा जोड़ा कम

- Zia Mazkoor
7 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zia Mazkoor

As you were reading Shayari by Zia Mazkoor

Similar Writers

our suggestion based on Zia Mazkoor

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari