safar ke baad bhi mujh ko safar mein rahna hai | सफ़र के बाद भी मुझ को सफ़र में रहना है - Aadil Raza Mansoori

safar ke baad bhi mujh ko safar mein rahna hai
nazar se girna bhi goya khabar mein rahna hai

abhi se os ko kirnon se pee rahe ho tum
tumhein to khwaab sa aankhon ke ghar mein rahna hai

hawa to aap ki qismat mein hona likkha tha
magar main aag hoon mujh ko shajar mein rahna hai

nikal ke khud se jo khud hi mein doob jaata hai
main vo safeena hoon jis ko bhanwar mein rahna hai

tumhaare baad koi raasta nahin milta
to tay hua ki udaasi ke ghar mein rahna hai

jala ke kaun mujhe ab chale kisi ki taraf
bujhe diye ko to aadil khandar mein rahna hai

सफ़र के बाद भी मुझ को सफ़र में रहना है
नज़र से गिरना भी गोया ख़बर में रहना है

अभी से ओस को किरनों से पी रहे हो तुम
तुम्हें तो ख़्वाब सा आंखों के घर में रहना है

हवा तो आप की क़िस्मत में होना लिक्खा था
मगर मैं आग हूं मुझ को शजर में रहना है

निकल के ख़ुद से जो ख़ुद ही में डूब जाता है
मैं वो सफ़ीना हूं जिस को भंवर में रहना है

तुम्हारे बाद कोई रास्ता नहीं मिलता
तो तय हुआ कि उदासी के घर में रहना है

जला के कौन मुझे अब चले किसी की तरफ़
बुझे दिए को तो 'आदिल' खंडर में रहना है

- Aadil Raza Mansoori
2 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aadil Raza Mansoori

As you were reading Shayari by Aadil Raza Mansoori

Similar Writers

our suggestion based on Aadil Raza Mansoori

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari