dard-e-dil hai na falsafa mere paas | दर्द-ए-दिल है न फ़लसफ़ा मेरे पास - Aamir Azher

dard-e-dil hai na falsafa mere paas
daal roti ka mas'ala mere paas

paas mere bhi hai teri hi dua
kaash hota tera khuda mere paas

zar dilaati hai hamko bevatni
par nahin koi baithta mere paas

aagahi aa gai to aa hi gai
rah gaya ek rabbana mere paas

ek pal ek pal na rok saka
waqt mera tha kab mera mere paas

tum pareezaad ho main aadam hoon
aise besudh na baithna mere paas

mera gham bhi hai tere gham jaisa
hai isee gham ki intiha mere paas

dard jaali hain ashk hain nakli
asl hai neend ki dava mere paas

sust raaton mein jisne chhodaa tha
tez baarish mein aa gaya mere paas

waqiya ye hai tu jo aa na saka
tab se main bhi na aa saka mere paas

waqt tha vo so waqt vo na raha
na vo aamir raha jo tha mere paas

दर्द-ए-दिल है न फ़लसफ़ा मेरे पास
दाल रोटी का मसअला मेरे पास

पास मेरे भी है तेरी ही दुआ
काश होता तेरा ख़ुदा मेरे पास

ज़र दिलाती है हमको बेवतनी
पर नहीं कोई बैठता मेरे पास

आगही आ गई तो आ ही गई
रह गया एक रब्बना मेरे पास

एक पल एक पल न रोक सका
वक़्त मेरा था कब मेरा मेरे पास

तुम परीज़ाद हो मैं आदम हूँ
ऐसे बेसुध न बैठना मेरे पास

मेरा ग़म भी है तेरे ग़म जैसा
है इसी ग़म की इंतिहा मेरे पास

दर्द जाली हैं अश्क हैं नकली
अस्ल है नींद की दवा मेरे पास

सुस्त रातों में जिसने छोड़ा था
तेज़ बारिश में आ गया मेरे पास

वाक़िया ये है तू जो आ न सका
तब से मैं भी न आ सका मेरे पास

वक़्त था वो सो वक़्त वो न रहा
न वो आमिर रहा जो था मेरे पास

- Aamir Azher
1 Like

Khwab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aamir Azher

As you were reading Shayari by Aamir Azher

Similar Writers

our suggestion based on Aamir Azher

Similar Moods

As you were reading Khwab Shayari Shayari