padh lega koi raat ki roee hui aankhen | पढ़ लेगा कोई रात की रोई हुई आँखें - Aamir Azher

padh lega koi raat ki roee hui aankhen
har samt hain aaraam se soi hui aankhen

jin logon ki manzil pe nazar hoti hai har dam
un ka hi tamasha hain ye khoi hui aankhen

din bhar to jame rahte hain palkon pe wahi khwaab
kyun hosh mein laati nahin dhoi hui aankhen

aankhon ka jamaal aap ko maaloom hi kya hai
dekhi hain kabhi raat vo soi hui aankh

kuchh bhi na dikha mojiza tha hi yahi aamir
khuli gaeein zamzam se bhigoi hui aankhen

पढ़ लेगा कोई रात की रोई हुई आँखें
हर सम्त हैं आराम से सोई हुई आँखें

जिन लोगों की मंज़िल पे नज़र होती है हर दम
उन का ही तमाशा हैं ये खोई हुई आँखें

दिन भर तो जमे रहते हैं पलकों पे वही ख़्वाब
क्यों होश में लाती नहीं धोई हुई आँखें

आँखों का जमाल आप को मालूम ही क्या है
देखी हैं कभी रात वो सोई हुई आँख

कुछ भी न दिखा मोजिज़ा था ही यही 'आमिर'
खोली गईं ज़मज़म से भिगोई हुई आँखें

- Aamir Azher
0 Likes

Raat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aamir Azher

As you were reading Shayari by Aamir Azher

Similar Writers

our suggestion based on Aamir Azher

Similar Moods

As you were reading Raat Shayari Shayari