baahar bhi ab andar jaisa sannaata hai | बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है - Aanis Moin

baahar bhi ab andar jaisa sannaata hai
dariya ke us paar bhi gahra sannaata hai

shor thame to shaayad sadiyaan beet chuki hain
ab tak lekin sehama sehama sannaata hai

kis se boluun ye to ik sehra hai jahaan par
main hoon ya phir goonga bahra sannaata hai

jaise ik toofaan se pehle ki khaamoshi
aaj meri basti mein aisa sannaata hai

nayi sehar ki chaap na jaane kab ubharegi
chaaron jaanib raat ka gahra sannaata hai

soch rahe ho socho lekin bol na padna
dekh rahe ho shehar mein kitna sannaata hai

mahv-e-khwaab hain saari dekhne waali aankhen
jaagne waala bas ik andha sannaata hai

darna hai to an-jaani awaaz se darna
ye to aanis dekha-bhala sannaata hai

बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है
दरिया के उस पार भी गहरा सन्नाटा है

शोर थमे तो शायद सदियाँ बीत चुकी हैं
अब तक लेकिन सहमा सहमा सन्नाटा है

किस से बोलूँ ये तो इक सहरा है जहाँ पर
मैं हूँ या फिर गूँगा बहरा सन्नाटा है

जैसे इक तूफ़ान से पहले की ख़ामोशी
आज मिरी बस्ती में ऐसा सन्नाटा है

नई सहर की चाप न जाने कब उभरेगी
चारों जानिब रात का गहरा सन्नाटा है

सोच रहे हो सोचो लेकिन बोल न पड़ना
देख रहे हो शहर में कितना सन्नाटा है

महव-ए-ख़्वाब हैं सारी देखने वाली आँखें
जागने वाला बस इक अंधा सन्नाटा है

डरना है तो अन-जानी आवाज़ से डरना
ये तो 'आनिस' देखा-भाला सन्नाटा है

- Aanis Moin
2 Likes

Khamoshi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aanis Moin

As you were reading Shayari by Aanis Moin

Similar Writers

our suggestion based on Aanis Moin

Similar Moods

As you were reading Khamoshi Shayari Shayari