ik karb-e-musalsal ki saza den to kise den | इक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें - Aanis Moin

ik karb-e-musalsal ki saza den to kise den
maqtal mein hain jeene ki dua den to kise den

patthar hain sabhi log karein baat to kis se
is shehr-e-khamaoshaan mein sada den to kise den

hai kaun ki jo khud ko hi jalta hua dekhe
sab haath hain kaaghaz ke diya den to kise den

sab log sawaali hain sabhi jism barhana
aur paas hai bas ek rida den to kise den

jab haath hi kat jaayen to thaamega bhala kaun
ye soch rahe hain ki asa den to kise den

bazaar mein khushboo ke khareedaar kahaan hain
ye phool hain be-rang bata den to kise den

chup rahne ki har shakhs qasam khaaye hue hai
hum zahar bhara jaam bhala den to kise den

इक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें
मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें

पत्थर हैं सभी लोग करें बात तो किस से
इस शहर-ए-ख़मोशाँ में सदा दें तो किसे दें

है कौन कि जो ख़ुद को ही जलता हुआ देखे
सब हाथ हैं काग़ज़ के दिया दें तो किसे दें

सब लोग सवाली हैं सभी जिस्म बरहना
और पास है बस एक रिदा दें तो किसे दें

जब हाथ ही कट जाएँ तो थामेगा भला कौन
ये सोच रहे हैं कि असा दें तो किसे दें

बाज़ार में ख़ुशबू के ख़रीदार कहाँ हैं
ये फूल हैं बे-रंग बता दें तो किसे दें

चुप रहने की हर शख़्स क़सम खाए हुए है
हम ज़हर भरा जाम भला दें तो किसे दें

- Aanis Moin
2 Likes

Sazaa Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aanis Moin

As you were reading Shayari by Aanis Moin

Similar Writers

our suggestion based on Aanis Moin

Similar Moods

As you were reading Sazaa Shayari Shayari