ab ikhtiyaar mein maujen na ye rawaani hai | अब इख़्तियार में मौजें न ये रवानी है - Abhishek shukla

ab ikhtiyaar mein maujen na ye rawaani hai
main bah raha hoon ki mera vujood paani hai

main aur meri tarah tu bhi ek haqeeqat hai
phir iske baad jo bachta hai vo kahaani hai

tere vujood mein kuch hai jo is zameen ka nahin
tere khayal ki rangat bhi aasmaani hai

zara bhi dakhl nahin ismein in hawaon ka
humein to maslahatan apni khaak udaani hai

ye khwaab-gaah ye aankhen ye mera ishq-e-qadeem
har ek cheez meri zaat mein puraani hai

vo ek din jo tujhe sochne mein guzra tha
tamaam umr usi din ki tarjumaani hai

nawaah-e-jaan mein bhatkati hain khushbuen jiski
vo ek phool ki lagta hai raat-raani hai

iraadtan to kahi kuch nahin hua lekin
main jee raha hoon ye saanson ki khush-gumaani hai

अब इख़्तियार में मौजें न ये रवानी है
मैं बह रहा हूँ कि मेरा वजूद पानी है

मैं और मेरी तरह तू भी एक हक़ीक़त है
फिर इसके बाद जो बचता है वो कहानी है

तेरे वजूद में कुछ है जो इस ज़मीं का नहीं
तेरे ख़याल की रंगत भी आसमानी है

ज़रा भी दख़्ल नहीं इसमें इन हवाओं का
हमें तो मस्लहतन अपनी ख़ाक उड़ानी है

ये ख़्वाब-गाह ये आँखें ये मेरा इश्क़-ए-क़दीम
हर एक चीज़ मेरी ज़ात में पुरानी है

वो एक दिन जो तुझे सोचने में गुज़रा था
तमाम उम्र उसी दिन की तर्जुमानी है

नवाह-ए-जाँ में भटकती हैं ख़ुशबुएँ जिसकी
वो एक फूल की लगता है रात-रानी है

इरादतन तो कहीं कुछ नहीं हुआ लेकिन
मैं जी रहा हूँ ये साँसों की ख़ुश-गुमानी है

- Abhishek shukla
1 Like

Khyaal Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abhishek shukla

As you were reading Shayari by Abhishek shukla

Similar Writers

our suggestion based on Abhishek shukla

Similar Moods

As you were reading Khyaal Shayari Shayari