pukaar use ki ab is khaamoshi ka hal nikle | पुकार उसे कि अब इस ख़ामुशी का हल निकले - Abhishek shukla

pukaar use ki ab is khaamoshi ka hal nikle
jawaab aaye to mumkin hai baat chal nikle

zamaana aag tha aur ishq lau lagi rassi
hazaar jal ke bhi kab is bala ke bal nikle

main apni khaak pe ik umr tak barsta raha
thama to dekha ki keechad mein kuch kamal nikle

main jismein khush bhi tha zinda bhi tha,तुम्हारा bhi tha
kai zamaane nichodun to ek pal nikle

kuch ek khwaab wahaan bo rahunga socha hai
vo nain agar mere nainon se bhi sajal nikle

main apne haathon ko rota tha har dua ke baad
khuda ke haath to mujhse ziyaadah shal nikle

dayaar ae ishq mein sabka guzar nahin mumkin
kai jo pairo'n pe aaye थे,सर ke bal nikle

bahaar jazb hai jismein use banaate hue
tamaam rang mere canvas pe dal nikle

jamee hui thi meri aankh ik alaav ke gird
kuch ek khwaab to yoonhi pighal pighal nikle

badal ke rakh hi diya mujhko umr bhar ke liye
teri hi tarah tere gham bhi bebadal nikle

jo dil mein aaye the aahat utaar kar apni
vo dil se nikle to phir kitna pur khalal nikle

पुकार उसे कि अब इस ख़ामुशी का हल निकले
जवाब आये तो मुम्किन है बात चल निकले

ज़माना आग था और इश्क़ लौ लगी रस्सी
हज़ार जल के भी कब इस बला के बल निकले

मैं अपनी ख़ाक पे इक उम्र तक बरसता रहा
थमा तो देखा कि कीचड़ में कुछ कमल निकले

मैं जिसमें ख़ुश भी था, ज़िन्दा भी था,तुम्हारा भी था
कई ज़माने निचोडूं तो एक पल निकले

कुछ एक ख़्वाब वहां बो रहूंगा, सोचा है
वो नैन अगर मेरे नैनों से भी सजल निकले

मैं अपने हाथों को रोता था हर दुआ के बाद
ख़ुदा के हाथ तो मुझसे ज़ियादः शल निकले

दयार ए इश्क़ में सबका गुज़र नहीं मुम्किन
कई जो पैरों पे आये थे,सर के बल निकले

बहार जज़्ब है जिसमें, उसे बनाते हुए
तमाम रंग मेरे कैनवस पे डल निकले

जमी हुई थी मेरी आंख इक अलाव के गिर्द
कुछ एक ख़्वाब तो यूंही पिघल पिघल निकले

बदल के रख ही दिया मुझको उम्र भर के लिए
तेरी ही तरह तेरे ग़म भी बेबदल निकले

जो दिल में आये थे आहट उतार कर अपनी
वो दिल से निकले तो फिर कितना पुर ख़लल निकले

- Abhishek shukla
2 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abhishek shukla

As you were reading Shayari by Abhishek shukla

Similar Writers

our suggestion based on Abhishek shukla

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari