surkh sehar se hai to bas itna sa gila hum logon ka | सुर्ख़ सहर से है तो बस इतना सा गिला हम लोगों का - Abhishek shukla

surkh sehar se hai to bas itna sa gila hum logon ka
hijr charaagon mein phir shab bhar khoon jala hum logon ka

hum wahshi the vehshat mein bhi ghar se kabhi baahar na rahe
jungle jungle phir bhi kitna naam hua hum logon ka

aur to kuch nuksaan hua ho khwaab mein yaad nahin hai magar
ek sitaara zarb-e-sehar se toot gaya hum logon ka

ye jo hum takhleeq-e-jahaan-e-nau mein lage hain paagal hain
door se hum ko dekhne waale haath bata hum logon ka

bigde the bigde hi rahe aur umr guzaari masti mein
duniya duniya karne se jab kuch na bana hum logon ka

khaak ki shohrat dekh ke hum bhi khaak hue the pal bhar ko
phir to ta'aqub karti rahi ik umr hawa hum logon ka

shab bhar ik awaaz banaai subh hui to cheekh pade
roz ka ik maamool hai ab to khwaab-zada hum logon ka

सुर्ख़ सहर से है तो बस इतना सा गिला हम लोगों का
हिज्र चराग़ों में फिर शब भर ख़ून जला हम लोगों का

हम वहशी थे वहशत में भी घर से कभी बाहर न रहे
जंगल जंगल फिर भी कितना नाम हुआ हम लोगों का

और तो कुछ नुक़सान हुआ हो ख़्वाब में याद नहीं है मगर
एक सितारा ज़र्ब-ए-सहर से टूट गया हम लोगों का

ये जो हम तख़्लीक़-ए-जहान-ए-नौ में लगे हैं पागल हैं
दूर से हम को देखने वाले हाथ बटा हम लोगों का

बिगड़े थे बिगड़े ही रहे और उम्र गुज़ारी मस्ती में
दुनिया दुनिया करने से जब कुछ न बना हम लोगों का

ख़ाक की शोहरत देख के हम भी ख़ाक हुए थे पल भर को
फिर तो तआक़ुब करती रही इक उम्र हवा हम लोगों का

शब भर इक आवाज़ बनाई सुब्ह हुई तो चीख़ पड़े
रोज़ का इक मामूल है अब तो ख़्वाब-ज़दा हम लोगों का

- Abhishek shukla
0 Likes

Khwab Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abhishek shukla

As you were reading Shayari by Abhishek shukla

Similar Writers

our suggestion based on Abhishek shukla

Similar Moods

As you were reading Khwab Shayari Shayari