nahin tha dhyaan koi todate hue cigarette | नहीं था ध्यान कोई तोड़ते हुए सिगरेट - Afzal Khan

nahin tha dhyaan koi todate hue cigarette
main tujh ko bhool gaya chhodate hue cigarette

so yun hua ki pareshaaniyon mein peene lage
gham-e-hayaat se munh modte hue cigarette

mushaabah kitne hain ham sokhta-jabeenon se
kisi sutoon se sar fodte hue cigarette

kal ik malang ko kude ke dher par la kar
nashe ne tod diya jodte hue cigarette

hamaare saans bhi le kar na bach sake afzal
ye khaak-daan mein dam todate hue cigarette

नहीं था ध्यान कोई तोड़ते हुए सिगरेट
मैं तुझ को भूल गया छोड़ते हुए सिगरेट

सो यूँ हुआ कि परेशानियों में पीने लगे
ग़म-ए-हयात से मुँह मोड़ते हुए सिगरेट

मुशाबह कितने हैं हम सोख़्ता-जबीनों से
किसी सुतून से सर फोड़ते हुए सिगरेट

कल इक मलंग को कूड़े के ढेर पर ला कर
नशे ने तोड़ दिया जोड़ते हुए सिगरेट

हमारे साँस भी ले कर न बच सके 'अफ़ज़ल'
ये ख़ाक-दान में दम तोड़ते हुए सिगरेट

- Afzal Khan
0 Likes

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Khan

As you were reading Shayari by Afzal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Khan

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari