aziyyat hai ki roz-o-shab ghutan mehsoos hoti hai | अज़िय्यत है कि रोज़-ओ-शब घुटन महसूस होती है - Ahmad Abdullah

aziyyat hai ki roz-o-shab ghutan mehsoos hoti hai
bhale hon paas mere sab ghutan mehsoos hoti hai

ghutan meri deewani hai ghutan ka main deewaana hoon
zamaane ko bina matlab ghutan mehsoos hoti hai

mujhe tujh par nahin khud par bahut afsos hota hai
tere hote hue bhi jab ghutan mehsoos hoti hai

wahi jis baag mein sab log taza saans lete hain
mujhe us baag mein bhi ab ghutan mehsoos hoti hai

अज़िय्यत है कि रोज़-ओ-शब घुटन महसूस होती है
भले हों पास मेरे सब घुटन महसूस होती है

घुटन मेरी दीवानी है घुटन का मैं दीवाना हूँ
ज़माने को बिना मतलब घुटन महसूस होती है

मुझे तुझ पर नहीं ख़ुद पर बहुत अफ़सोस होता है
तेरे होते हुए भी जब घुटन महसूस होती है

वही जिस बाग़ में सब लोग ताज़ा साँस लेते हैं
मुझे उस बाग़ में भी अब घुटन महसूस होती है

- Ahmad Abdullah
12 Likes

Romantic Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Abdullah

As you were reading Shayari by Ahmad Abdullah

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Abdullah

Similar Moods

As you were reading Romantic Shayari Shayari