jaa-b-jaa teergi har ghadi teergi | जा-ब-जा तीरगी हर घड़ी तीरगी - Ahmad Abdullah

jaa-b-jaa teergi har ghadi teergi
ab mere chaar soo aa basi teergi

chaar cheezein pe mabni hai kamra mera
chand yaadein dhuaan ik ghadi teergi

tere aane se itna charaagan hua
varna mere liye zindagi teergi

roop kaise main luun dhaar tera bata
mil hai paai kabhi raushni teergi

raat gahri mein chhup jaata hai maah bhi
husn chheenegi tera meri teergi

koi allah ka banda bataaye mujhe
aaine mein hoon main ya khadi teergi

haath maine milaaya charaagon se jab
dekh ke ye sitam ro padi teergi

inki nisbat se hi to main zinda raha
aashiqi dilbari shayari teergi

जा-ब-जा तीरगी हर घड़ी तीरगी
अब मेरे चार सू आ बसी तीरगी

चार चीज़ों पे मबनी है कमरा मेरा
चंद यादें धुआँ इक घड़ी तीरगी

तेरे आने से इतना चरागाँ हुआ
वरना मेरे लिए ज़िन्दगी तीरगी

रूप कैसे मैं लूँ धार तेरा बता
मिल है पाई कभी रौशनी तीरगी

रात गहरी में छुप जाता है माह भी
हुस्न छीनेगी तेरा मेरी तीरगी

कोई अल्लाह का बन्दा बताए मुझे
आईने में हूँ मैं या खड़ी तीरगी

हाथ मैंने मिलाया चराग़ों से जब
देख के ये सितम रो पड़ी तीरगी

इनकी निस्बत से ही तो मैं ज़िन्दा रहा
आशिक़ी दिलबरी शायरी तीरगी

- Ahmad Abdullah
7 Likes

Husn Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Abdullah

As you were reading Shayari by Ahmad Abdullah

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Abdullah

Similar Moods

As you were reading Husn Shayari Shayari