mafroor parindon ko ye ailaan gaya hai | मफ़रूर परिंदों को ये ऐलान गया है - Ahmad Abdullah

mafroor parindon ko ye ailaan gaya hai
sayyaad nasheeman ka pata jaan gaya hai

yaani jise deemak lagi jaati thi vo main tha
ab aake mera meri taraf dhyaan gaya hai

sheeshe mein bhale usne meri nakl utaari
khush hoon ki mujhe koi to pehchaan gaya hai

ab baat teri kun pe hai kuchh kar mere maula
ik shakhs tere dar se pareshaan gaya hai

ye naam-o-nasab jaake zamaane ko batao
darvesh to dastak se hi pehchaan gaya hai

मफ़रूर परिंदों को ये ऐलान गया है
सय्याद नशेमन का पता जान गया है

यानी जिसे दीमक लगी जाती थी वो मैं था
अब जा के मेरा मेरी तरफ़ ध्यान गया है

शीशे में भले उसने मेरी नक़्ल उतारी
ख़ुश हूँ कि मुझे कोई तो पहचान गया है

अब बात तेरी कुन पे है कुछ कर मेरे मौला
इक शख़्स तेरे दर से परेशान गया है

ये नाम-ओ-नसब जाके ज़माने को बताओ
दरवेश तो दस्तक से ही पहचान गया है

- Ahmad Abdullah
24 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Abdullah

As you were reading Shayari by Ahmad Abdullah

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Abdullah

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari