zindagi se yahi gila hai mujhe | ज़िंदगी से यही गिला है मुझे - Ahmad Faraz

zindagi se yahi gila hai mujhe
tu bahut der se mila hai mujhe

tu mohabbat se koi chaal to chal
haar jaane ka hausla hai mujhe

dil dhadakta nahin tapkata hai
kal jo khwaahish thi aablaa hai mujhe

hum-safar chahiye hujoom nahin
ik musaafir bhi qaafila hai mujhe

kohkan ho ki qais ho ki faraaz
sab mein ik shakhs hi mila hai mujhe

ज़िंदगी से यही गिला है मुझे
तू बहुत देर से मिला है मुझे

तू मोहब्बत से कोई चाल तो चल
हार जाने का हौसला है मुझे

दिल धड़कता नहीं टपकता है
कल जो ख़्वाहिश थी आबला है मुझे

हम-सफ़र चाहिए हुजूम नहीं
इक मुसाफ़िर भी क़ाफ़िला है मुझे

कोहकन हो कि क़ैस हो कि 'फ़राज़'
सब में इक शख़्स ही मिला है मुझे

- Ahmad Faraz
16 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari