dariya mein dasht dasht mein dariya saraab hai | दरिया में दश्त दश्त में दरिया सराब है - Ahmad Khayal

dariya mein dasht dasht mein dariya saraab hai
is poori kaayenaat mein kitna saraab hai

rozaana ik faqeer lagata hai ye sada
duniya saraab hai are duniya saraab hai

moosa ne ek khwaab-e-haqeeqat bana diya
vaise to gehre paani mein rasta saraab hai

poori tarah se haath mein aaya nahin kabhi
vo husn-e-be-misaal bhi aadha saraab hai

khulta nahin hai ret hai paani ki aur kuchh
meri nazar ke saamne pehla saraab hai

suraj ki tez dhoop mein dhoka har ek shay
kaali ghatta si raat mein saaya saraab hai

दरिया में दश्त दश्त में दरिया सराब है
इस पूरी काएनात में कितना सराब है

रोज़ाना इक फ़क़ीर लगाता है ये सदा
दुनिया सराब है अरे दुनिया सराब है

मूसा ने एक ख़्वाब-ए-हक़ीक़त बना दिया
वैसे तो गहरे पानी में रस्ता सराब है

पूरी तरह से हाथ में आया नहीं कभी
वो हुस्न-ए-बे-मिसाल भी आधा सराब है

खुलता नहीं है रेत है पानी कि और कुछ
मेरी नज़र के सामने पहला सराब है

सुरज की तेज़ धूप में धोका हर एक शय
काली घटा सी रात में साया सराब है

- Ahmad Khayal
1 Like

Nadii Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Nadii Shayari Shayari