zindagi khauf se tashkeel nahin karne mujhe | ज़िंदगी ख़ौफ़ से तश्कील नहीं करनी मुझे - Ahmad Khayal

zindagi khauf se tashkeel nahin karne mujhe
raat se zaat ki takmeel nahin karne mujhe

kisi darvesh ke hujre se abhi aaya hoon
so tire hukm ki taameel nahin karne mujhe

chhod di dasht-navardi bhi ziyaan-kaari bhi
zindagi ab tiri tazleel nahin karne mujhe

dil ke bazaar mein zanjeer-zani honi nahin
aankh bhi aankh rahe jheel nahin karne mujhe

main ki ilhaad ke girdaab mein aaya hua hoon
ab kisi ilm ki tahseel nahin karne mujhe

ladte rahna hai tasalsul se mujhe subh talak
aur talwaar bhi tabdeel nahin karne mujhe

ज़िंदगी ख़ौफ़ से तश्कील नहीं करनी मुझे
रात से ज़ात की तकमील नहीं करनी मुझे

किसी दरवेश के हुजरे से अभी आया हूँ
सो तिरे हुक्म की तामील नहीं करनी मुझे

छोड़ दी दश्त-नवर्दी भी ज़ियाँ-कारी भी
ज़िंदगी अब तिरी तज़लील नहीं करनी मुझे

दिल के बाज़ार में ज़ंजीर-ज़नी होनी नहीं
आँख भी आँख रहे झील नहीं करनी मुझे

मैं कि इल्हाद के गिर्दाब में आया हुआ हूँ
अब किसी इल्म की तहसील नहीं करनी मुझे

लड़ते रहना है तसलसुल से मुझे सुब्ह तलक
और तलवार भी तब्दील नहीं करनी मुझे

- Ahmad Khayal
0 Likes

Wahshat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Wahshat Shayari Shayari