jaisi honi ho vo raftaar nahin bhi hoti | जैसी होनी हो वो रफ़्तार नहीं भी होती - Ahmad Khayal

jaisi honi ho vo raftaar nahin bhi hoti
raah is samt ki hamvaar nahin bhi hoti

main tahee-dast ladai ke hunar seekhta hoon
kabhi is haath mein talwaar nahin bhi hoti

phir bhi ham log the rasmon mein aqeedon mein juda
gar yahan beech mein deewaar nahin bhi hoti

vo meri zaat se inkaar kiye rakhta hai
gar kabhi soorat-e-inkaarn nahin bhi hoti

jis ko bekar samajh kar kisi kone mein rakhen
aisa hota hai ki bekar nahin bhi hoti

dil kisi bazm mein jaate hi machalta hai khayal
so tabeeyat kahi be-zaar nahin bhi hoti

जैसी होनी हो वो रफ़्तार नहीं भी होती
राह इस सम्त की हमवार नहीं भी होती

मैं तही-दस्त लड़ाई के हुनर सीखता हूँ
कभी इस हाथ में तलवार नहीं भी होती

फिर भी हम लोग थे रस्मों में अक़ीदों में जुदा
गर यहाँ बीच में दीवार नहीं भी होती

वो मिरी ज़ात से इंकार किए रखता है
गर कभी सूरत-ए-इंकार नहीं भी होती

जिस को बेकार समझ कर किसी कोने में रखें
ऐसा होता है कि बेकार नहीं भी होती

दिल किसी बज़्म में जाते ही मचलता है 'ख़याल'
सो तबीअत कहीं बे-ज़ार नहीं भी होती

- Ahmad Khayal
0 Likes

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari